भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

गुन

पुं.

करनी, करतूत (व्यंग्य)।
Discription with Examples: लरिकाईं ते करत अचगरी मैं जाने गुन तबहीं। ८०६।
(ख) कौनैं गुन बन चली बधू तुम, कहि मोंसौं सति भाउ – ९ – ४४।
(ग) सुनहु महरि अपने सुत के गुन – १० – ३०३।
(घ) तुम्हरे गुन सब नीके जाने – ३९१।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. गुण]

गुन

पुं.

विशेषण।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. गुण]

गुन

पुं.

तीन की संख्या।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. गुण]

गुन

पुं.

प्रकृति।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. गुण]

गुन

पुं.

रस्सी, तागा, डोरी।
Discription with Examples: (क) इन तौ करी पाछिले की गति गुन तोरयौ बिच धार – १ – १७५।
(ख) तमहर सुत गुन आदि अन्त कवि का मतिवन्त बिचारो – सा. ४०।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. गुण]

गुन

एक प्रत्यय जो संख्यावाची शब्दों के अन्त में जुड़कर उतने ही गुण होना सूचित करता है।
Discription with Examples: गिरिजा पितु पितु पितु ही ते सौ गुन सी दरसावै – सा. १५।
Category: प्रत्य.
Etamology: [सं. गुण]

गुन

मनन करके, सोच विचार कर।
Discription with Examples: (क) हम पढ़ि गुनकै सब बिसरायौ ८९६।
(ख) गिरिजा – पति – पतनी पति जा सुत गुनगुन गनन उतारै – सा, ५।
Category: क्रि. स.
Etamology: [हिं. गुनना]

गुन अकास

पुं.

आकाश का गुण, शब्द।
Discription with Examples: गुन अकास को सिद्ध साधना सास्त्र करत बिस्तार – सा.१०४।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. गुण + आकाश]

गुनकारी

लाभदायक, गुण करनेवाली।
Discription with Examples: सिय रिपु पितु सुत बंधु तात हित जाके चरन – कमल गुनकारी – सा. १०३।
Category: वि.
Etamology: [सं. गुण+हिं. कारी]

गुनगुना

नाक में बोलनेवाला।
Category: वि.
Etamology: [अनु.]

गुनगुना

मामूली गरम।
Category: वि.
Etamology: [हिं. कुनकुना]

गुनगुनाना

गुनगुन शब्द करना।
Category: क्रि. अ.
Etamology: [अनु.]

गुनगुनाना

नाक में बोलना।
Category: क्रि. अ.
Etamology: [अनु.]

गुनगुनाना

धीरे-धीरे गाना।
Category: क्रि. अ.
Etamology: [अनु.]

गुनगौरि

स्त्री.

पार्वती के समान सौभाग्यवती स्त्री।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. गुण + गौरी]

गुनगौरि

स्त्री.

पतिव्रता नारी।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. गुण + गौरी]

गुनज्ञा

(गुणों के) पारखी।
Discription with Examples: सूर स्याम सबके सुखदायक लायक गुननि गुनज्ञ – पृ. ३४६ (४४)।
Category: वि.
Etamology: [सं. गुणज्ञ]

गुनति

गुन रही है, सोच विचार रही है।
Discription with Examples: मेरौ कह्यौ नाहिंन सुनति। तबहिं ते इकटक रही है, कहा धौ मन गुनति – ७१९।
Category: क्रि. अ.
Etamology: [हिं. गुनना]

गुनन

पुं.

मनन, विचार।
Category: संज्ञा
Etamology: [हिं. गुनना]

गुनन

पुं. बहु.

अनेक गुण।
Category: संज्ञा
Etamology: [हिं. गुण]

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App