भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

< previous1234567895556Next >

हिंदी वर्णमाला का चौथा व्यंजन; उच्चारण जिह्वामूल या कंठ से होता है ; स्पर्श वर्ण ; इसमें घोष, नाद, संवार और महाप्राण प्रयत्न होते हैं।

घई

स्त्री.

पानी का भँवर या चक्कर, प्रवाह।
थूनी, टेक।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. गंभीर]

घई

गहरा, अथाह।
Category: वि.
Etamology: [सं. गंभीर]

घउरी

स्त्री.

फल पत्तियों का गुच्छा।
Category: संज्ञा
Etamology: [हिं. घवरि]

घँगोल

पुं.

कुमुद।
Category: संज्ञा
Etamology: [देश, ]

घँघरा

पुं.

स्त्रियों को लहँगा।
Category: संज्ञा
Etamology: [हिं. घघरा]

घघरा

पुं.

स्त्रियों का लहँगा।
Category: संज्ञा
Etamology: [हिं. घन + घेरा]

घँघराघोर

पुं.

छुआछूत न मानना।
Category: संज्ञा
Etamology: [देश.]

घँघरी

स्त्री.

छोटा लहँगा।
Category: संज्ञा
Etamology: [हिं. घघरी]

घँघोरना, घँघोलना

पानी में कुछ घोलना।
Category: क्रि. स.
Etamology: [हिं. घन + घोलना]

घँघोरना, घँघोलना

पानी गंदा करना।
Category: क्रि. स.
Etamology: [हिं. घन + घोलना]

घचघच

स्त्री.

नरम चीज में नुकीली चीज घुसने या धँसने का शब्द।
Category: संज्ञा
Etamology: [अनु.]

घंट

पुं.

घड़ा।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. घट]

घंट

पुं.

जलपात्र जो मृतक-क्रिया में पीपल से बाँधा जाता है।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. घट]

घट

पुं.

घड़ा, जलपात्र, कलसा।
Discription with Examples: (क) माधौ, नैकु हटकौ गाइ।….। अष्टदस घट नीर अँचवति, तृषा तउ न बुझाइ – १ – ५६।
(ख) नैन घट घटत न एक धरी। कबहुँ न मिटत सदा पावस ब्रज लागी रहत झरी – ३४५५।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं.]

घट

पुं.

पिंड, शरीर।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं.]

घट

पुं.

मन, हृदय।
Discription with Examples: (क) जो घट अंतर हरि सुमिरै। ताको काल रूठि का करिहे, जो चित चरन धरै – १ – ८२।
(ख) वै अबिगत अबिनासी पूरन सब घट रह्यौ समाइ – २९८८।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं.]

घट

Muhavara: घट में बसना (बैठना) :- (१) मन में बसना, ध्यान रहना।
(२) बात समझ में आ जाना।
Category: मु.

घट

कम, थोड़ा, छोटा।
Category: वि.
Etamology: [हिं. घटना]

घट – सुत – अरितनयापति

पुं.

श्रीकृष्ण।
Discription with Examples: घटसुतअरितनयापति सजनी नाहिं नेह निबहो री – सा, उ. ५१।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. घटसुत = अगस्त्य ऋषि + अरि=शत्रु (अगस्त्य का शत्रु समुद्र)+ तनया (समुद्र की पुत्री लक्ष्मी)+ पति (लक्ष्मी के पति विष्णु = श्रीकृष्ण)]
< previous1234567895556Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App