भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

< previous1234567893637Next >

कँकना

(पु.)

हाथ का गहना

कंकाला

(वि.)

झगड़ालू; कर्कश

कंकाली

(पु.)

एक घुमक्कड़ जाति के लोग, जो शिकार करते, भीख माँगते और गाते फिरते हैं (शायद ये लोग किसी समय शिव उपासक और कंकाल के पुजारी थे)

कँखरी

(स्त्री.)

काँख

कंगड़ि, कंगनी

(स्त्री.)

नदी आदि के कटाव से निर्मित किनारे की धार; कगार; चबूतरा आदि का किनारा

कंगला

(पु.)

दरिद्र लोग, जो बिना आमंत्रण, विवाह अथवा तेरहवीं आदि अवसरों पर खाने के लिए पहुँच जाते हैं

कंगही

(स्त्री.)

कपड़ा बुनने की हस्त मशीन में प्रयुक्त छिद्र युक्त, पट्टी जिसमें तागा फँसाया जाता है

कंगा

(क्रि. वि.) (पु.)

बिना बुलाये खाने के अवसर पर पहुँच जाने वाला व्यक्ति

कंचित

(क्रि. वि.)

शापद

कंचुकी

(स्त्री.)

स्त्रियों का वस्त्र विशेष

कंजा

(पु.)

एक कँटीला जंगली पेड़, जिसके फल भूरे रंग के होते हैं तथा कई औषधियों में काम आते हैं

कंजा

(वि.)

जिसकी आँखे भूरी हों अथवा जिसकी आँख दागी हों

कँटिया

(स्त्री.)

छोटा तराजू

कंटेन

(वि.)

पूर्ण, सकन्धित

कंडउरा

(पु.)

वह कमरा, जिसमें कंडा रखा जाये

कंडज

(स्त्री.) (पु.)

एक जंगली पौधा, जिसकी दातून बनाई जाती है और जिसमें फली भी लगती है उसकी कड़वी गंध दाँतों के कीटाणुओं को मारती है

कँड़ा

(पु.)

पैरों में पहनने का आभूषण

कंड़ा

(पु.)

गोबर का उपला

कँड़िया

(स्त्री.)

जमीन में गड़ा क्कंड़ों व पत्थर से निर्मित वह पात्र, जिसमें मूसल से चावल, दाल आदि छाँटते या कूटते हैं

कंडील

(पु.)

पतले और प्रायः रंगीन कागज के बने पिंजडे, जिसमें दिया जलाकर विशेष अवसरो पर रखे जाते हैं
< previous1234567893637Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App