भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of International Law (English-Hindi)(CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

airlift

वायुवहन
(1) वायुयान द्वारा कुमक अथवा रसद – पानी पहुँचाना जैसे, बर्लिन नाकाबंदी के समय पश्चिमी राष्ट्रों द्वारा वहाँ वायुयानों से आवश्यक वस्तुएँ पहुँचाई गई थी ।
(2) शत्रु सेना से घिरी या आपदग्रस्त सेना को हेलीकाप्टरों आदि के द्वारा सुरक्षित क्षेत्र मे पहुँचाना ।

air passage

वायुमार्ग
दे. Air corridor.

air sovereignty

आकाशी प्रभुसत्ता, हवाई प्रभुता
प्रत्येक देश को अपने भूभाग और जल क्षेत्र के ऊपर के आकाश पर पूर्ण प्रभुत्व प्राप्त होता है । किसी देश के आकाशी अधिकार – क्षेत्र से गुज़रने से पूर्व किसी भी अन्य देशीय वायुयान को उस देश से अनुमति लेनी पड़ती है । आकाशी अधिकार – क्षेत्र क अतिक्रमण या उल्लंघन अतंर्राष्ट्रीय विदि के अनुसार अपराध है ।

air space

औपचारिक स्वीकृत, पूर्व स्वीकृति
एक राज्य द्वारा किसी अन्य राज्य के राजनयिक प्रतिनिधि या अभिकर्ता की नियुक्ति को औपचारिक रूप से स्वीकार करने का कार्य । दे. aerial domain भी ।

air surveillance (=aerial surveillance)

नभीय निगरानी, हवाई निगरानी
किसी देश द्वारा अपनी सुरक्षा के लिए, अन्य देशओं के उन प्रदेशों एवं भूभागों का निरीक्षण करना जिनसे देश के लिए सामरिक महत्व के तथ्य प्राप्त किए जा सकते हैं । वर्तमान काल मे वायुयान के साथ – साथ यह कार्य अंतरिक्ष में छोड़े गए कृत्रिम उपग्रहों द्वारा भी किया जा रहा है ।

air transport agreements

वायु परिवहन करार
1944 में शिकागो मे हुए अंतर्राष्ट्रीय नागर विमानन सम्मेलन में स्वीकृत दो समझौते जिन्हें क्रमशः अंतर्राष्ट्रीय वायु पारगमन समझौता एवं अंतर्राष्ट्रीय वायु परिवहन समझौता कहा जाता है ।
पहले समझौते के अंतर्गत दो हवाई स्वतंत्रताओं तथा दूसरे समझौते के अंतर्गत पाँच हवाई स्वतंत्रताओं को मान्यता दी गई । विस्तार के लिए देखिए :- Two Freedoms Agreement तथा Five Freedoms Agreement.

वायु परिवहन करार
1944 में शिकागो मे हुए अंतर्राष्ट्रीय नागर विमानन सम्मेलन में स्वीकृत दो समझौते जिन्हें क्रमशः अंतर्राष्ट्रीय वायु पारगमन समझौता एवं अंतर्राष्ट्रीय वायु परिवहन समझौता कहा जाता है ।
पहले समझौते के अंतर्गत दो हवाई स्वतंत्रताओं तथा दूसरे समझौते के अंतर्गत पाँच हवाई स्वतंत्रताओं को मान्यता दी गई । विस्तार के लिए देखिए :- Two Freedoms Agreement तथा Five Freedoms Agreement.

alien

अन्यदेशी, विदेशी
किसी देश में रहने वाला वह व्यक्ति जिसे उस देश की नागरिकता प्राप्त नहीं है । प्रायः ऐसे व्यक्ति को उस देश में कोई राजनैतिक अधिकार प्राप्त नीहं होते परन्तु उसके नागरिक अधिकार संपत्ति विषयक अधिकारों को छोड़कर, स्थआनीय नागरिकों के समान ही होते हैं । ऐसे व्यक्ति की अपने मूल राज्य के प्रति निष्ठा बनी रहती है और विपदा में उसे अपने राज्य का संरक्षण पाने का अधिकार रहात ह । वास्तव में ऐसा व्यक्ति अपने मूल राज्य और स्थानीय राज्य के समवर्ती क्षेत्राधिकार के अधीन माना जाता है ।

alliance

सहबंध, गठबंधन
दो या अधिक राज्यों के मध्य ऐसा औपचारिक समझौता जिसके अंतर्गत ये राज्य किसी सामान्य लक्ष्य अथवा नीति की पूर्ति के लिए तता परस्पर सैनिक अथवा राजनीति सहायता देने हेतु वचनबद्ध होते हैं । साधारणतया सहबंध का उद्देश्य अन्य राज्यों के विरूद्ध संविदाकारी राज्यों की संप्रभुता और प्रादेशिक अखंडता को अक्षुण्ण बनाए रखना होता है ।

allied and associate powers

मित्र एवं सहचारी शक्तियाँ
दो महायुद्धों में जर्मनी और उससे संबद्ध राष्ट्रों के विरूद्ध संगठित राष्ट्रों का गठबंधन जिन्हें मित्र राष्ट्र कहा गया । प्रथम महायुद्ध मे इस प्रकार 26 राष्ट्र संबंध्ध हुए जिनमें पाँच प्रमुख राष्ट्र यथा, अमेरिका, ग्रेट ब्रिटेन, फ्रांस, इटली और जापान ही मित्र राष्ट्र कहे जाते थे । शेष 21 राष्ट्र सहबद्ध तथा सहयोगी राष्ट्र थे जिनके नाम इस प्रकार थे बेल्जियम, बोलिविया, ब्राजील, चीन, क्यूबा, चोकोस्लोवाकिया, इक्वेडर, यूनान, ग्वाटेमाला, हिजाज, हौंडुरस, लायबेरिया, निकारागुआ, पनामा, पेरू, पौलेंड, पुर्तगाल, रूमानिया, योगोस्लाविया शाम तथा ऊरूग्वे । परंतु द्वितीय महायुद्ध में प्रमुख राष्ट्रों मे संयुक्त राज्य अमेरिका, सोवियत संघ, ग्रेट ब्रिटेन और फ्रां ही थे ।

allies

मित्र राष्ट्र
समान राजनीतिक तथा सैनिक उद्देश्यों की पूर्ति अथवा हित संरक्षण या संवर्धन के लिए कीस सहबंध, समझौते अथवा संधि के अंतर्गत सहबद्ध राज्य । दोनों विश्व युद्धों मे जर्मनी के विरूद्ध लड़ने वाले राष्ट्रों को मित्र राष्ट्र कहा जाता था ।

ambassador

राजदूत
एक राज्य द्वारा दूसरे राज्य में अपने राज्य का प्रतिनिधित्व करने के लिए प्रत्यायित सर्वोच्च राजनयिक अधिकारी । इसकी नियुक्ति राजाध्यक्ष द्वारा की जाती है । राजदूतों को प्रथागत अंतर्राष्ट्रीय विधि और 1961 के वियना अभिसमय के अंतर्गत अनेक विशेषाधिकार एवं उन्मुक्तियाँ प्राप्त होती है । इन्हें महामहिम कहकर संबोधित किया जाता है ।

ambassadorial function

राजदूतीय कार्य
किसी देश में नियुक्त राजदूत के बहुविध कार्य होते हैं । मूर्धन्य राजनयिक होने के साथ – साथ वह राजनीतिक घटनाचक्रों का जागरूक प्रेक्षक, अपने राज्याध्यक्ष का वैयक्तिक प्रतिनिधि अपने राज्य के हितों का संरक्षक एवं सरकारी सूचना, सेवा और सहायता का स्रोत होता है । वह जिस राज्य मे भेजा जाता है उसके राज्याध्यक्ष आदि से किसी भी नीति, घटना, विवाद या विषय में सूचना और स्पष्टीकरण आदि ले- दे सकता है । वस्तुतः उसका मुख्य कार्य अपनी नियुक्ति के देश में अपने राज्य के हितों की देखभाल और रक्षा करना है, किन्तु इसके साथ ही व ह अपने राज्याध्यक्ष को तद्देशीय आवश्यक सूचना और सलाह भी देता है तथा निदेशित नीति को क्रियान्वित कराता है । इसे स्थानीय राज्य से संधि और समझौते करने का अधिकार भी होता है ।
राजदूतों के कार्य और विशेषाधिकार एवं उन्मुक्तियों को 1961 के वियना अभिसमय द्वरा संहिताबद्ध कर दिया गया है ।

amendment of treaty

संधि संशोधन
परिवर्तनशील परिस्थितियों के अनुकूल किसी संधि में संशोधन करने की व्यवस्था, जिसका प्रावधान प्रायः संधि के मूल प्रारूप मे कर दिया जाता है । इस व्यवस्था मे संधि के प्रारूप में संशोधन करने की प्रक्रिया का विस्तृत वर्णन भी किया जा सकता है । साधारणतया संधि में संशोधन के लिए सभी मूल हस्ताक्षरकर्ता राज्यों की सम्मति आवश्यक होती है जिसके लिए इनका सम्मेलन भी आयोजित किया जा सकता है । 1945 के उपरांत यह प्रवृत्ति भी दृष्टिगोचर होती है कि बहुपक्षीय संधियों में बहुसंख्याक मत यिदि किसी संशोधन के पक्ष मे है तो उसे मान लिया जाए ।

amicable settlement

सौहार्दपूर्ण समझौता
दो या अधिक पक्षों के मध्य शांति एवं सौहार्दपूर्ण विधि अथवा उपायों से विवाद या मतभेद का निपटारा । ऐसे उपायों मे वार्तालाप, सत्प्रयास, मध्यस्थता, न्यायिक प्रक्रिया व विवाचन शामिल है ।

angary

युद्ध संकटाधिकार
अंतर्राष्ट्रीय विधि के अंतर्गत युद्धकारी राज्य का अपने अधिकार क्षेत्र में तटस्थ राज्य के जहाजों, संपत्ति अथवा सामान को हस्तगत करने का अधिकार । इसका प्रयोग केवल उसी स्थिति में किया जा सकता है जब युद्धकारी राज्य यह अनुभव करे कि ऐसा करना उसके द्वारा किए जा रहे युद्ध के लिए आवश्यक है । युद्धकारी राज्य को युद्धोपरांत क्षतिग्रस्त संपत्ति के स्वामी को क्षतिपूर्ति करनी होती है । यदि संपत्ति नष्ट न की गई हो तो संकट समाप्त होने पर से उसके स्वामी को लौटाना होता है ।

animus belligerendi

युद्ध प्रयोजन
युद्ध अवस्था की वैधिक अवधारणा में यह एक निर्णायक तत्व है कि दो राज्यों के बीच शसस्त्र संघर्ष को तभी युद्ध अवस्था कहा जा सकता है जब उनमें से कम से कम किसी एक का युद्ध करने का प्रयोजन हो । यह प्रयोजन अनेक बातों से प्रकट हो सकता है जैसे युद्ध की विधिवत् घोषणा, राजनयिक संबंध विच्छेद, समुद्र मे नाकेबंदी आदि युद्धकारी अधिकारों का प्रयोग ।

animus occupandi

आधिपत्य प्रयोजन
किसी राज्य द्वारा किसी स्वामीविहीन प्रदेश पर प्रभावकारी आधिपत्य स्थापित करने की इच्छा जो उसके द्वारा किए गे किन्ही सुनिश्चित कार्यों से प्रकट होती हो , जैसे उस प्रदेश में अपने राज्य का ध्वज लगा देना या स्मारक बना देना इत्यादि । यह आधिपत्य की प्रारंभिक अवस्था है ।

annexation

समामेलन, राज्य में मिला लेना
युद्ध में विजय प्राप्त कर विजेता राज्य द्वारा विजित राज्य के प्रदेश को अपने राज्य में मिला लेना । इस मिला लेने की क्रिया के लिए विजेता द्वारा स्पष्ट घोषणा की जानी चाहिए और उसमें उक्त प्रेदश को अपने राज्य में मिला लेने की उसकी इच्छा और प्रयोजन की अभिव्यक्ति होनी चाहिए । प्रायः शांति संधि द्वारा भी संबंधित प्रदेश का समामेलन किया जाता है ।

Antarctic claims

एन्टार्कटिका संबंधी दावे
एन्टार्कटिका (दक्षिण ध्रुव प्रदेश) महाद्वीप संबंधी अनेक देशों ने क्षेत्रक सिद्धांत (sector principle) के आधार पर अपने राष्ट्रीय काल्पनिक दावे किए थे जो परस्पर विरोधी थे परन्तु एन्टार्कटिका संधि, 1959 के अंतर्गत इन सब राष्ट्रीय दावों को मान्यता न देते हुए यह व्यवस्था की गई है कि एन्टार्कटिका के अन्वेषण का अधिकार सब देशों को है और इस कार्य में सभी राष्ट्र सहयोग करेंगे ।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App