भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Petrology (English-Hindi)(CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

phenocryst

लक्ष्यक्रिस्टल :
पॉर्फिरिटिक शैलों में वे क्रिस्टल जो अपने आसपास के अन्य खनिज-क्रिस्टलों से सुस्पष्टतः बड़े आकार के होते हैं ।

phonolite

फोनोलाइट, ध्वनि प्रस्तर :
नेफलीन-सायनाइट का समतुल्य एक बहिर्वेधी शैल (extrusive rock) जिसके प्रमुख खनिज सोडा ऑर्थोक्लेज या सैनीडीन है तथा अन्य मुख्य खनिज नेफलिन और एजीरीन-डायोप्साइड हैं जिनके साथ कुछ फेल्सपैथायड खनिज भी मिल सकते हैं । ऐपाटाइट तथा स्फीन इस शैल में गौण खनिज के रूप में मिलते हैं ।

phosphatic nodules

फॉस्फेटी ग्रंथिका :
धूसर, काले, भूरे रंग के फॉस्फेट युक्त गोल पिण्ड जो विभिन्न समुद्री निक्षेपों में मिलते हैं और वर्तमान समय में भी समुद्र की तली पर निर्मित हो रहे हैं ।

phosphate rock

फॉस्फेट शैल :
कैल्सियम फॉस्फेट से संघटित अवसादी शैल ।

phreatic water

अधोभौमजल :
भौमजल (underground water) का समानार्थी, यद्यपि मूलतः यह शब्द एक भिन्न अर्थ में प्रयोग में लाया जाता था ।

phyllite

फाइलाइट :
एक मृणमय कायान्तरित शैल जिसमें शैल-विदलन स्लेट और शिस्ट के बीच का होता है । यह शैल समान्यतः शेल तथा टफ़ के प्रादेशिक कायान्तरण से निर्मित होता है ।

picrite

पिक्राइट :
असितवर्णी (dark colour) अधिवितलीय शैल जो प्रचुर मात्रा में ऑलिवीन के साथ पाइरॉक्सीन, बायोटाइट और सम्भवतः ऐम्फिबोल तथा 10 प्रतिशत से कम प्लोजियोक्लेस से युक्त होता है ।

piedmont deposits

गिरिपद निक्षेप :
पर्वत की तलहटी में निर्मित निक्षेप । इनमें स्थूलकणिक पदार्थ जैसे संगुटिकाश्म, संकोणाश्म सूक्ष्मकणिक अवसादों के साथ अन्तरास्तरित (interbedded) होते हैं ।

piezocontact metamorphism

बलसंस्पर्श कायांतरण :
संस्पर्श कायान्तरण की प्रक्रिया जो पर्वतन के दौरान अन्तर्वेधन (intrusion) के कारण विकसित होती है ।

pinch and swell structure

संकोच एवं स्फीति संरचना :
विरूपण के दौरान क्वार्ट्ज़ शिरा के विभिन्न भागों के खिचाव के कारण उनके पतले एवं मोटे होने से बनी संरचना । ऐसी संरचना क्रॉस काट में मोती की लड़ी सी दिखती है ।

pisolite

पिसोलाइट :
(क) संकेन्द्रीय रूप से स्तरित आन्तरिक संरचना से युक्त 2 मिoमीo व्यास से अधिक का गोलाभ या दीर्घवृत्तज कण ।
(ख) अधिकांशतः लगभग मटर के साइज पिसोलाइटों से संघटित चूनाश्म ।

pisolith

पिसोलिथ, मटराश्म :
अवसादी शैलों में रासायनिक या जैव रासायनिक क्रिया द्वारा निर्मित मटर के आकार के कण । बहुधा यह शब्द पिसोलाइट के अर्थ में भी प्रयुक्त होता है ।

pisolitic

पिसोलाइटीक :
मटर सदृश्य गोल कणों से युक्त ।

pisolith sinter

पिसोलिथ सिन्टर :
गर्म पानी के सोतों के समीप निर्मित मटराश्मी कैल्सियमी निक्षेप ।

pit and mound strcuture

गर्त पिंडक संरचना :
गाढ़े पंक के स्थिरण के दौरान गैसों के निष्कासित बुलबुलों से निर्मित अवसादी टीलानुमा (1 मिली मीटर ऊंचा और 1/12 मिली मीटर व्यास की) संरचना । इस संरचना का ऊपरी भाग सूक्ष्म क्रेटर (1 मिली मीटर व्यास) जैसा होता है ।

pitch stone

पिच स्टोन :
एक ज्वालामुखीय काच (volcanic glass) जिसकी द्युति (lustre) मोम जैसी रेड़नी (resinous) होती है । इसका रंग और संघटन अत्यधिक विचरणशील होता है, इसमें ऑब्सीडियन की अपेक्षा जल की प्रतिशत मात्रा अधिक होती है ।

plateau basalt

पठारी बेसाल्ट :
अतीत भूवैज्ञानिक काल में विदर-उद्भेदनों (fissure-eruptions) से विशाल मात्रा में निकले हुए अपेक्षतया प्रवाही बेसाल्टी लावा का संचय जिससे भू-पृष्ठ के कई बड़े-बड़े क्षेत्र बहुत बड़े पैमाने पर ढक गए ।

pleochroic

बहुवर्णी :
बहुवर्णता से संबंधित या बहुवर्णता लिए हुए ।

pleochroic haloes

बहुवर्णी परिवेश :
बायोटाइट, टूरमैलीन तथा कुछ अन्य खनिजों में रेडियो ऐक्टिव खनिजों के अन्तर्वेशों (जैसे ज़रकान) के चारों ओर गहरे रंग के लघु, संकेन्द्री, गोल मण्डल ।

pleochroism

बहुवर्णता :
ध्रुवित प्रकाश में खनिजों की विभिन्न रंग प्रदर्शित करने का एक गुण जो उनमें विभिन्न तलों में कंपमान प्रकाश के असमान अवशोषण के कारण होता है ।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App