भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Hindi Paribhashik Laghu Kosh (CHD)

Central Hindi Directorate (CHD)

< previous1234567891415Next >

(स्त्री.) (देश.)

किसी वस्तु की अधिकता, बहुतायत, प्रचुरता, विपुलता। शा.अर्थ (पूरी तरह से) भर जाने की स्थिति से भी अधिक मात्रा में होने की स्थिति। उदा. उसकी अलमारी में साडि़यों की भरमार है।

भक्‍त

(वि.) (तत्.)

मूल.अर्थ 1. कई भागों में बँटा हुआ। 2. ईश्‍वर की भक्‍ति करने वाला। जैसे: भक्‍त प्रह्लाद 3. (विकसित अर्थ) किसी के प्रति/पूर्ण श्रद्धा और निष्‍ठा रखने वाला व्यक्‍ति। जैसे: देशभक्‍त, गाँधीभक्‍त।

भक्‍तवत्‍सल

(वि.) (तत्.)

अपने भक्तों पर कृपा करने या पूर्ण स्नेह रखने वाला

भक्‍तिभाव

(पुं.) (तत्.)

पूज्य, देवी-देवता या ईश्‍वर के प्रति प्रकट होने वाला विशेष प्रकार का प्रेम भाव। प्रयो. मीराबाई के पदों में कृष्ण के प्रति अनुपम भक्‍तिभाव प्रकट होता है।

भक्षक

(वि.) (तत्.)

1. खाने वाला 2. ला.अर्थ अपने स्वार्थ के लिए किसी का पूर्णरूप से अहित करने वाला। प्रयो. जब रक्षक ही भक्षक बन जाए तो उसके बारे में क्या कहा जाए।

भक्षण

(पुं.) (तत्.)

1. दाँतों से तोड़कर/काटकर खाने की क्रिया या भाव। 2. आहार, भोजन जैसे: तिल-भक्षण, फल-भक्षण।

भक्षण

(पुं.) (तत्.)

खाने की क्रिया या भाव। जैसे: मांस-भक्षण

भंग

(पुं.) (तत्.)

1. टूटने, मुड़ने या विभक्‍त होने की क्रिया या भाव। जैसे : धनुषभंग 2. विघ्न, बाधा, रूकावट। जैसे : रंग में भंग होना। 3. ध्वंस, विनाश, समाप्‍ति जैसे : सभा भंग कर दी गई। स्त्री. तत्. 4. एक पौधा जिसकी पत्‍तियाँ नशीली होती हैं। भाँग, विजया।

भगदड़

(स्त्री.) (देश.)

संकट की स्थिति में लोगों का घबराकर सोचे-विचारे बिना इधर-उधर भागना-दौड़ना। प्रयो. आग लगते ही पंडाल में भगदड़ मच गई।

भगवा

(वि.) (देश.)

गेरूए रंग का प्रयो. साधु-संयासी भगवा वस्त्र धारण करते हैं।

भगिनी

(स्त्री.) (तत्.)

बहन, बहिन।

भंगिमा

(स्त्री.) (तत्.)

1. शरीर के अंगों (विशेषकर चेहरे और आँखों) की मुद्रा जो मन के किसी भाव को प्रकट करती हो। 2. टेढ़ापन या कुटिलता।

भगीरथ

(पुं.) (तत्.)

1. अयोध्या के वे प्रसिद् ध सूर्यवंशी राजा जिन्होंने उग्र तपस्या करके ‘स्वर्ग’ से गंगा नदी को पृथ्वी पर अवतरित किया। मुहा. भगीरथ प्रयत्‍न-ऐसा कार्य जो लगभग असंभव या अत्यंत कठिन (दुष्कर) प्रतीत हो पर जिसे पूरा कर लिया जाए।

भगोड़ा

(पुं.) (देश.)

1. जो किसी डर के कारण अपना कर्तव्य या नौकरी छोडक़र दूसरी जगह चला गया हो। कायर, डरपोक 2. जो कानून या न्यायिक दंड पाने के भय से कहीं भाग गया हो। फरार। प्रयो: चोर के अदालत में हाजिर न होने से न्यायाधीश ने उसे भगोड़ा घोषित कर दिया।

भगोना

(पुं.) (देश.)

धातु का बना चौड़े मुँह वाला और आकार में अपेक्षाकृत बड़ा और ऊँचा पात्र जो पानी या अन्य खाद्य पदार्थों, जैसे: दूध, चावल, आलू इत्यादि उबालने के काम आता है।

भगोने-डोंगे

(पुं.) (देश.)

बहु. रसोईघर में काम आने वाले वे बरतन जिनमें साग-सब्जी पकाई और परोसी जाती है।

भग्न

(वि.) (तत्.)

टूटा हुआ, खंडित जैसे: पुरातात्विक भग्नावशेष (भग्न-अवशेष=टूटे-फूटे बचे हुए टुकड़े)

भग्नावशेष

(पुं.) (तत्.)

बहु. भवनों, मूर्तियों आदि के शेष बचे और खुदाई से मिले वे ऐतिहासिक अध्ययन की दृष्‍टि से महत्‍वपूर्ण टुकड़े या खंडित अंश जो उस स्थान के इतिहास का लेखा-जोखा तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

भजन

(पुं.) (तत्.)

भगवान् या इष्‍टदेव का बार-बार नाम लेना। 2. ऐसा पद् य जिसमें किसी इष्‍ट देव का गुणगान किया गया हो और उनसे कुछ माँगा गया हो। 3. संगीत के साथ उच्च स्वर से उक्‍त पद्यों का गायन। तुल. कीर्तन-उच्च स्वर में आराघ्य की कीर्ति का वर्णन।
< previous1234567891415Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App