भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Hindi Paribhashik Laghu Kosh (CHD)

Central Hindi Directorate (CHD)

< previous1234567895556Next >

पंक्‍ति

(स्त्री.) (तत्.)

1. खिंची हुई सीधी रेखा। 2. एक जैसी वस्तुओं, व्यक्‍तियों या जीवों का आगे-पीछे या अगल-बगल में एक सीध में रखना या खड़े होना। पर्या. कतार। उदा. सैनिकों/छात्रों ने पंक्‍तिबद्ध होकर परेड की।

पंख

(पुं.) (तद्.<पक्ष)

सा.अर्थ पक्षियों के वे अंग जिनकी सहायता से उड़ते हैं। पर्या. डैना, पर। प्राणि. (i) पक्षियों, चमगादड़ आदि की उड़ने में सहायक कर्मेंद्रिय जो रूपांतरित अग्रपाद होते हैं। (ii) कीटों में उड़ने के अंग जो त्वचा उद्वर्ध होते हैं। पर्या. पक्ष wings मुहा. 1. पंख लगना=गति बढ़ जाना। 2. पंख काटना=किसी के रास्ते में रूकावट डालना। 3. पंख जमना= (i) स्वच्छंद हो जाना, बुरी आदत लगना। (ii) विनाश नजदीक होना।

पंखा

(पुं.) (तद्.)

1. ताड़, खजूर के पत्‍तों या बाँस आदि से बनाया गया वह विशेष उपकरण जो हवा के लिए हाथ से डुलाया जाता है। बेना/बेनवा। पर्या. व्यजन। 2. विद्युत चालित वह विशेष उपकरण जो हवा के लिए प्रयुक्‍त होता है। fan जैसे: हमारे पुस्तकालय में दो पंखे छत में लगे हैं तथा एक टेबलफैन नीचे रखा हुआ है। तु. पंखड़ी।

पंगु

(वि.) (तत्.)

जो पैरों से न चल सकता हो, लंगड़ा। उदा. (i) ईश्‍वर की कृपा से ‘पंगु चढ़इ गिरिवर गहन। (ii) पंगु विकलांग श्रेणी में आते हैं।

पंचतंत्र

(पुं.) (तत्.)

विष्णु शर्मा रचित संस्कृत की एक प्रसिद् ध नीति-कथाविषयक पुस्तक जिसके पाँच भाग (तंत्र) हैं 1. सुहृदभेद, 2. मित्रलाभ, 3. काकोलूकीय, 4. लब्धप्रणाश और 5. अपरीक्षित कारक।

पंचत्व/पंचभूत

(तत्.) (पुं.)

भारतीय दर्शन के अनुसार संपूर्ण सृष्‍टि की रचना करने वाले पाँच तत् व हैं। ये पाँच तत् व हैं-आकाश, वायु, तेज, जल और पृथ्वी। उदा. छिति-जल-पावक-गगन-समीरा। पंच- तत् व यह बना सरीरा।।

पंचनामा

(पुं.) (देश.)

किसी स्थिति या घटना के बारे में तैयार किया गया वह दस्तावेज जिस पर सनद के रूप में पाँच व्यक्‍तियों के हस्ताक्षर होते हैं। उदा. आयकर विभाग का छापा पड़ने पर जो माल बरामद हुआ उसका पंचनामा तैयार कर लिया गया।

पंचमी

(स्त्री.) (तत्.)

अमावस या पूनम के बाद की पाँचवी तिथि। जैसे: बसंत पंचमी।

पंचांग [पंच+अंग]

(पुं.) (तत्.)

शा.अर्थ पाँच अंग हैं जिसके। ऐसा प्रकाशन जिसमें या तो (i) भारतीय पद् धति के अनुसार चंद्रमास वाली गणना के अनुसार प्रतिवर्ष विक्रमी संवत् संबंधी वार, तिथि, नक्षत्र, योग और करण (ये पाँच अंग-पंचांग) व्योरेवार दिए रहते हैं या फिर; (ii) ईसवी (खिटीय) कलेंडर के अनुसार जिसमें हर वर्ष के दिनों, सप्‍ताहों एवं महीनों का विवरण मिलता है। अल्पनाक, calendar

पंचामृत [पंच+अमृत] पुं

(तत्.)

पाँच द्रव्यों-गाय के दूध, दही, घी शहद और चीनी को मिलाकर देवस्नान के लिए बनाया गया वह पदार्थ जो पवित्र मानकर प्रसाद के रूप में ग्रहण किया जाता है। उदा. श्रीकृष्ण जन्माष्‍टमी के पुण्य अवसर पर मैंने पंचामृत का प्रसाद लेकर व्रत तोड़ा।

पंचायत

(स्त्री.) (तद्.)

किसी विवाद को समाप्‍त करने के लिए चुने हुए (पाँच) लोगों का दल।

पंचायती राज

(पुं.) (तद्.)

प्रशा. भारत में प्रचलित गाँव और जिला स्तर पर स्थानीय स्वशासन की व्यवस्था। टि. यह व्यवस्था भारत में स्वशासन की प्राचीन परंपरा का ही विकसित रूप है। इस नई व्यवस्था में ग्राम स्तर पर ग्राम पंचायत, खंड स्तर पर पंचायत समिति तथा जिला स्तर पर जिला परिषद होती है।

पंछी

(पुं.) (तद्.)

पक्षी, चिड़िया। उदा. तुलसी पंछिन के पिए घटै न सरि को नीर।

पंजा

(पुं.) (फा.)

1. पाँचों अंगुलियों से युक्‍त हाथ का अग्रिम भाग, तलवा या हथेली। 2. पक्षियों के पैर का वह निचला भाग जिसके सहारे पक्षी खड़े होते, तैरते या बैठते हैं। 3. जूते का अगला भाग जिसमें पैरों की उंगलियाँ ढकी रहती हैं। 4. कुत्‍ते, बिल्ली, शेर, भालू आदि के नाखून जो शस्त्र का काम करते हैं। 5. पाँच का समूह। जैसे: शेर के पंजे का निशान है।

पंजिका

(स्त्री.) (तत्.)

किसी भी प्रकार का विवरण, हिसाब-किताब आदि लिखने की पुस्तिका। पर्या. पंजी, बही, रजिस्टर। जैसे: उपस्थिति पंजिका, आय-व्यय विवरण पंजिका आदि। तु. संचिका।

पंजी (पंजिका)

(स्त्री.) (तत्.)

प्रशा. 1. व्यवहारों, घटनाओं, नामों आदि को दर्ज करने के लिए रखी गई पुस्तक/पुस्तिका या रजिस्टर। 2. प्राय: काम में आने वाले विशेष आंकड़ों के संग्रहण की युक्‍ति। register

पंजीकरण

(पुं.) (तत्.)

1. पंजी (डायरी/रजिस्टर) में नाम या अन्य कोई भी संबंधित सूचना दर्ज करने की क्रिया। जैसे: मतदाता सूची में नाम का पंजीकरण अथवा डाक पंजीकरण आदि। Registration

पंजीकृत

(वि.) (तत्.)

शा.अर्थ पंजी में (रजिस्टर में) चढ़ाया हुआ। registerd

पंडाल

(पुं.) (तद्.)

शादी-ब्याह, सभा, अधिवेशन आदि के लिए छोलदारी tent से बना और सजा-सजाया बड़ा मंडल।
< previous1234567895556Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App