भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Hindi Paribhashik Laghu Kosh (CHD)

Central Hindi Directorate (CHD)

< previous12Next >

थकना अ.क्रि.

(तद्.<स्थगन)

1. काम करते-करते इतना शिथिल हो जाना कि आगे काम न किया जा सके। पर्या. श्‍लथ होना, क्लांत होना। 2. आयु बढ़ने के कारण शारीरिक शक्‍ति का स्वत: ही शिथिल हो जाना।

थका-मांदा

(तद्.) ([तद्.+मांदा- फा.])

(थका+मांदा) थका और माँदा=अस्वस्थ, बीमार; इतना थका हुआ कि अब काम न कर सके; थकने के कारण अस्वस्थ जैसा, शिथिल। पर्या. क्लांत।

थकान

(स्त्री.) (तद्<स्थगन)

थक जाने की स्थिति का सूचक भाव; काम करते-करते रूकने की इच्छा। पर्या. थकावट।

थन

(पुं.) (तद्.<स्तन)

पशुओं का दूध देने वाला लटका हुआ मांसल अंग।

थपेड़ा

(पुं.) (देश.<थप-थप ध्वनि)

थप्पड़; धक्का, आघात। जैसे: लहरों के थपेड़े, लू के थपेड़े, वर्षा के थपेड़े आदि।

थमना अ.क्रि.

(तद्.<स्तब्ध)

बहती/चलती स्थिति से स्थिर स्थिति में आना; रूकना। उदा. हवा थम गई है।, ब्रेक लगाते ही गाड़ी थम जाती है। टि. रूकने के लिए ‘थमना’ को प्राय: ग्राम्य प्रयोग माना जाता है।

थमाना

स.क्रि. किसी के हाथ में कोई चीज़ देना या पकड़ाना। जैसे: पुस्तक थमाना।

थरथर क्रि.

(वि.)

(अनुरण.) काँपने की स्थिति या भाव के साथ क्रोध या भय की अवस्था में अथवा अत्यधिक ठंड में शरीर के काँपने की स्थिति के साथ। टि. इस शब्द का प्रयोग काँपना क्रिया के साथ ही होता है।

थाना

(पुं.) (तद्.<स्थानक)

शा.अर्थ बैठने का स्थान। सा.अर्थ पुलिस अधिकारी के बैठने का स्थान। police station

थामना स.क्रि.

(तद्<स्तंभन)

1. चलती या गिरती हुई वस्तु को रोकना या पकड़ना। 2. सहारा देना। 3. कोई कार्य अपने जिम्मे लेना। मुहा. बागडोर थामना=नेतृत्व स्वीकार करना।

थार

(पुं.)

(व्यक्‍तिवाचक नाम) पश्‍चिमोत्‍तर भारत और पाकिस्तान के दक्षिण-पूर्व भाग में लगभग एक लाख वर्गमील (लगभग ढाई लाख वर्ग कि.मी.) के क्षेत्र में फैला विशाल रेगिस्तान।

थिगली

(स्त्री.) (देश.<टिकली)

कपड़े या चमड़े में हुए छिद्र को ढकने के लिए ऊपर से लगाया गया। (चिपकाकर या सिलकर) कोई टुकड़ा। पर्या. पैबंद, चकती। मुहा. आसमान/बादल में थिगली लगाना=कठिन कार्य करना या व्यर्थ परिश्रम करना।

थियेटर/थिएटर

(पुं.)

(अं.) 1. वह स्थान या भवन जहाँ फिल्में, नाटक आदि दिखाए जाएँ। पर्या. रंगशाला, नाट्यगृह, सिनेमा हॉल। 2. नाटकों का लेखन और उनका प्रदर्शन/प्रस्तुतीकरण। 3. वह बड़ा कक्ष जहाँ कोई विशिष्‍ट कार्य संपन्न किया जाए। जैसे: operation theatre (O.T)

थिरकना अ.क्रि.

(देश.)

1. स्थिर गति से (लगातार) अंगों को चलाना। 2. नृत्य करते समय बार-बार अंग हिलाना। 3. एक ही स्थान पर खड़े-खड़े या बैठे हुए बार-बार अंग हिलाना। (टि. इस क्रिया में मन का उत्साहित होना आवश्यक है।)

थुलथुला

(वि.) (देश.)

वह (शरीर या कोई अंग विशेषकर पेट) जिसकी मांसपेशियाँ कसी हुई न हों या भार के कारण हिलती हुई सी हों।

थैला

(पुं.) (देश.)

कपड़े, टाट, कागज़ या पोलिथीन इत्यादि का तीन ओर से चिपकाकर या सीकर और एक ओर का भाग खुला रखकर बनाया गया पात्र जिसमें रखकर वस्तुएँ एक स्थान से दूसरे स्थान पर लाई/ले जाई जाती हैं। पर्या. झोला।

थोक

(पुं.) (तद्.<स्तोमक=समूह)

जिसकी मात्रा या संख्या अधिक हो। वि. तद्. ऐसा (व्यापार) जो वस्तुओं की अधिक मात्रा के अनुसार होता हो। पर्या. खुदरा। विलो. फुटकर whole sale

थोक खरीद

([तद्.+फा.] ) (स्त्री.)

किसी वस्तु की इकट्ठी (अधिक संख्या में) खरीद। bulk purchage

थोक विक्रेता

(पुं.) ([तद्.+ तत्.] )

किसी वस्तु को (फुटकर मात्रा में न बेचकर) एक साथ अधिक मात्रा में बेचने वाला व्यापारी। whole saler
< previous12Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App