भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Hindi Paribhashik Laghu Kosh (CHD)

Central Hindi Directorate (CHD)

< previous12Next >

ढँकना स.क्रि.

(देश.) (पुं.)

किसी वस्तु को आवरण डालकर ओट में कर देना या छिपाना। पर्या. ढाँकना। खुले पात्र को ढाक देने वाला हिस्सा जो उस पात्र का ही एक भाग होता है। पर्या. ढक्कन।

ढँकना/ढकना ढाँकना/ढांपना स.क्रि.

(देश.)

ऊपर कोई वस्तु रखना। उदा. 1. दूध की पतीली को ढक कर रख दो। 2. मुंह ढक कर सोने से ताज़ी हवा नहीं मिलती।

ढकेलना

स.क्रि. (हिं.<धक्का) धक्का देकर आगे बढ़ाया या गिराना़। पर्या. ठेलना।

ढकोसला

(पुं.) ([तद्.<ढक्का कौशल])

1. आडंबर, झूठा प्रदर्शन। 2. वास्तविकता से दूर, बनावटी रूप, झूठा व्यवहार। उदा. धर्म के नाम पर आजकल ढकोसला अधिक किया जाता है।

ढँढोरा/ढिंढोरा

(पुं.)

(अनु.) 1. घोषणा करते समय बजाया जाने वाला ढोल। 2. ढोल बजाकर की जाने वाली घोषणा। मुहा. ढंढोरा पीटना-न कहने योग्य बात को सब जगह कहते फिरना। (व्यंग्य)। उदा. हर बात का ढंढोरा पीटना ठीक नहीं।

ढपोर शंख

(वि./पुं.) (तद्.)

डींग मारने वाला व्यक्‍ति जो कहे बहुत, पर करे कुछ भी नहीं।

ढरकना/ढलकना

(पुं.) (देश.)

1. किसी द्रव पदार्थ का नीचे की ओर बह जाना। जैसे: आँसू ढरकना। 2. लुढक़ना। 3. ढीला पड़ जाना। जैसे: कपड़ा ढरक गया है। (प्रेरणा. ढरकाना/ढलकाना)

ढरकाना/ढलकाना स.क्रि.

(देश.)

ढलकने/ढरकने में प्रवृत्‍त करना। ढलकाना, लुढक़ाना; किसी द्रव पदार्थ को बहाना, किसी गोल पदार्थ को नीचे की ओर लुढक़ाना।

ढर्रा

(पुं.) (देश.)

काम करने की बँधी-बँधाई शैली। उदा. दुनिया बदल गई किंतु तुम्हारी काम करने का वही पुराना ढर्रा है।

ढलना अ.क्रि.

(देश.)

1. किसी द्रव पदार्थ का नीचे की ओर आना, बहना। 2. बीत जाना, उतार पर होना। उदा. जवानी ढल गई, दिन ढल गया। 3. आकर बदलना। उदा. गरम लोहा साँचे में ढलकर चादर बन गया; चाशनी में पका खोया बरफी में ढल गया। 4. किसी के अनुरूप व्यवहार करना। उदाहरण-बहू जल्दी ही अपने ससुराल के आचार-व्यवहार के अनुरूप ढल जाती है।

ढलवाँ

(वि.) (देश.)

1. ऐसा स्थान जिसमें ढाल या नीचे की ओर उतार हो। उदा. ढलवाँ सडक़ पर साइकिल ने बिना पैडल मारे ही रफ्तार पकड़ ली। 2. जो साँचे में ढालकर बनाया गया हो। उदा. कुतुब मीनार के पास ढलवाँ लोहे से बने लौह स्तंभ पर कभी जंग नहीं लगती।

ढलान

(स्त्री.) (देश.)

1. ऐसा स्थान जहाँ ऊपर से नीचे की ओर उतार हो। उदा. आगे गहरी ढलान है, गाड़ी सावधानी से चलाना। 2. उतार पर होना। जैसे: उम्र की ढलान।

ढहना अ.क्रि.

(तद्.ध्वसंन)

गिर पड़ना, ध्वस्त हो जाना, नष्‍ट हो जाना। उदा. अधिक वर्षा होने से पुराना मकान ढह गया।

ढहाना स.क्रि.

(देश.)

उदा. नगर निगम के दस्ते ने अवैध दुकानों को ढहा दिया।

ढाँचा

(पुं.) (देश.)

किसी भी रचना या बनावट का आधारभूत रूप। उदा. मकान का इंटों वाला ढाँचा खड़ा करने में तो समय नहीं लगता पर उसे संवारने/सज़ाने में काफी समय और पैसा खर्च होता है। गठन, बनावट।

ढाँढ़स

(पुं.) (देश.)

किसी शोकग्रस्त व्यक्‍ति को हिम्मत न हारने की शिक्षा देने के लिए उसके हितैषी द्वारा कहा गया शब्द या वाक्य। पर्या. सांत्वना, साहस, हिम्मत, आश्‍वासन। मुहा. ढांढ़स बँधाना=सांत्वना देना।

ढाँणी

(स्त्री.) (देश.)

गाँव से कुछ दूरी पर बनी हुई कच्चे मकानों की बस्ती; अस्थायी आवास। जयपुर में ‘चोखी ढाँणी’ बहुत प्रसिद् ध जगह है।

ढाबा

(पुं.) (देश.)

1. नगर के बाहर या सडक़ के किनारे बने साधारण और अस्थाई भोजनालय। उदा. बस जहाँ रूकी वहाँ हमने पंजाबी ढाबे में खाना खा लिया।

ढालना/ऊँडेलना स.क्रि.

(देश.)

1. इच्छित रूप देने के लिए साँचे में पिघले पदार्थ को डालना। 2. बिछाना, सजाना। जैसे: चारपाई ढालना। 3. गरम लोहे को ढालकर रेल की पटरियाँ और पहिए बनाए जाते हैं। 4. ला.प्रयोग शराब ढालना-शराब पीना।
< previous12Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App