भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Hindi Paribhashik Laghu Kosh (CHD)

Central Hindi Directorate (CHD)

< previous1234Next >

डंक

(पुं.) (तद्.)

कीटपतं आदि के शरीर का वह काँटेनुमा भाग जिसमें एक प्रकार का विष या विषैला पदार्थ होता है और जिसका प्रयोग वे आत्मरक्षा के लिए या आक्रमण के लिए करते हैं तथा जिससे शत्रु के शरीर में विष प्रवेश कर जाता है। जैसे: बिच्‍छु, मधुमक्खी आदि का डंक। Sting

डकार

(स्त्री.)

स्त्री (.देश) . 1. पेट की वायु का मुख द्वार से होकर विशेष आवाज़ के साथ बाहर निकलने का कार्य-व्यापार जो तृप्‍ति का सूचक होता है। 2. ‘ड’ वर्ण या उसका उच्चरित रूप।

डकारना अ.क्रि

(देश.) (दे.)

1. डकार लेना। डकार। 2. ला. .अर्थ का माल-मत्‍ता या रूपया पैसा हड़प जाना /हजम कर जाना और उसे हर हालत में न लौटाना।

डकैत

(पुं.) (दे.)

‘डाकू’।

डकैत

(वि.) (देश.)

डाका डालने वाला। पर्या. श. दे. ‘डाका’।

डकैती [डकैत+ई]

(स्त्री.) (देश.)

डाका डालने का कार्य-व्यापार, क्रिया। दे. डाका।

डग

(पुं.) (तद्.)

चलते समय दोनों पैरों के बीच की दूरी; पैर को एक स्थान से उठाकर अगले स्थान पर रखने के बीच की दूरी। step

डगमगाना अ.क्रि

(देश.)

कभी इस ओर और कभी उस ओर झुकते हुए चलना यानी स्थिर गति से चलने का अभाव दिखाई पड़ना, लड़खड़ाना, विचलित होना।

डगमाहट (डगमग+आहट)

(स्त्री.) (दे.)

डगमगाकर चलने की क्रिया या भाव। डगमगाना।

डंगर

(पुं.) (देश.)

पालतू पशु, चौपाया। ला.अर्थ. वि. मूर्ख, गंवार।

डगर

(स्त्री.)

शाडग अर्थ भरने /रखने का स्थान। सा.अर्थ पंथ, चलने का रास्ता।

डटना अ.

(देश.)

1. किसी स्थान पर स्थित होकर जम जाना। उदा. -तुम हफ्ते भर से यहाँ डटे हुए हो, जाने का नाम ही नहीं लेते। 2. किसी कार्य में पूरे मनोयोग से अविचलित रहते हुए लग जाना। उदा. डटकर पढ़ाई करो, सफलता तुम्हारे चरण चूमेगी।

डंठल

(पुं.) (तत्.)

1. शाकीय पादप का मुख्य तना। 2. पेड़ की डाली का वह हिस्सा जिस पर पत्‍तियाँ आती हैं और फूल खिलते हैं। stalk

डंडा

(पुं.) (तद्.>दंड)

1. लकड़ी या बांस का लंबा टुकड़ा जो सीधा हो। 2. सहारे के योग्य सीधी छड़ी। पर्या सोंटा, लाठी, पतला छोटा डंडा।

डंडी

(स्त्री.) (तद्.)

1. लकड़ी का छोटा टुकड़ा जो गिल्ली-डंडा खेल में प्रयुक्‍त होता है।

डपटना स.क्रि.

(तद्.<दर्प)

कठोर स्वर में बोलना; छोटों से गलती हो जाने पर बड़ों द्वारा उन्हें डांट देना या झिडक़ना। पर्या डाँटना, घुडक़ना।

डफ/डफली

(स्त्री.) (तद्.)

चमड़ा मढ़ा हुआ एक छोटा ताल वाद्य जिसे हाथ से थाप मारकर बजाया जाता है। पर्या ढपली लो. -अपनीढपली डफली अपना राग=हर व्यक्‍ति का अपना अलग मत होना।

डबडबाना

अ.क्रि. (अनु.) अश्रुपूर्ण होना, आँखों का आँसुओं से इतना भर जाना कि लगे अब बहने लगेंगी। उदा. -आँखें डबडबा आई।

डमरू

(पुं.) (तत्.)

बीच में पतला और दोनों सिरों पर अपेक्षाकृत मोटाई वाला एक बाजा जिसके दोनों सिरों पर चमड़ा मढ़ा होता है और बीच में दो गाँठ दार रस्सियाँ लटकी होती है। इस बाजे को हाथ से हिलाने पर चमड़े पर रस्सियों की गांठ से आघात होने पर डम-डम की ध्वनि निकलती है।
< previous1234Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App