भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Hindi Paribhashik Laghu Kosh (CHD)

Central Hindi Directorate (CHD)

चंगा

(वि.) (देश.)

1. स्वस्थ, तंदुरस्त। उदा. कैसे हो? चंगा हूँ। 2. विकार रहित। उदा. मन चंगा तो कठौती में गंगा।

चंगुल

(पुं.) (.फा.)

1. पक्षियों का पंजा। 2 पंजे की पकड़।

चंचु

(पुं.) (तत्.)

1. पक्षियों का बाहर की ओर उभरा हड्डी का नुकीला जबड़ा। 2. किसी वस्तु का नुकीला अग्रभाग। पर्या. चोंच।

चंदा

(पुं.) (तद्. चंद्र)

1. चंद्रमा। 2. गोल आकार की कोई भी चिपटी सी टिकली।

चंदा

(पुं.) (.फा. चंद)

1. थोड़ी थोड़ी मात्रा में अनेक लोगों से प्राप्‍त सहायता राशि। contribution 2. किसी पत्र-पत्रिका आदि के नियतकालिक शुल्क के एक मुश्त भुगतान की राशि। subscription

चंद्रमा

(.फा. चंद)

पृथ्वी की परिक्रमा करने वाला उपग्रह जो सूर्य के प्रकाश के प्रतिबिंब से रात को उजाला करता है, चंदा। पर्या. चंदा, चाँद, शशि, चंद्र, शशांक।

चंद्रिका

(स्त्री.) (तत्.)

1. चंद्रमा का शीलत प्रकाश। 2. मोर की पूँछ पर बना गोल चिह्न। पर्या. चाँदनी, ज्योत्‍स्‍ना, कौमुदी, चंद्रप्रभा।

चंपी

(स्त्री.) (देश.)

सिर में तेल की मालिश (विशेष रूप से विशेषज्ञ द्वारा)।

चँवर

(पुं.) (तद्.<चामर)

<चामर) चमरी गाय (सुरा गाय) के पूँछ के बालों का गुच्छा जिसे एक छोटे डंडे में बाँधकर देवाताओं या राजा महाराजाओं के ऊपर डुलाया जाता है। इसे 'चँवर डुलाना' कहते हैं।

चँवरी

(स्त्री.)

सजा-सजाया विवाह-मंडप जिसके नीचे वर-वधु अग्नि की परिक्रमा करते हैं।

चकमक

(वि.)

(तु.) एक विशेष प्रकार का कठोर, कणदार क्रिस्टली पत्थर जिसे रगड़ने या जिस पर चोट करने से चिनगारियाँ निकलती हैं। टि. आदिम काल में इस पत्थर से औज़ार बनाए जाते थे और अग्नि प्रज्वलित करने के लिए इसका उपयोग होता था।। आधुनिक युग में गैस लाइटर और सिगरेट लाइटर में इसके टुकड़े का उपयोग होता है। flint

चकमा

(पुं.) (तद्.(चक्रम्)

धोखा देने का कार्य, भुलावा। जैसे: चकमा देना = धोखा देना; चकमा खाना = धोखा खाना, भुलावे में आना।

चकराना अ.क्रि.

(तद्.चक्र)

(सिर के संदर्भ में) चक्कर खा रहा हो ऐसा महसूस करना। उदा. शा अर्थ- चक्कर खाना, भ्रमित होना, धोखे में पड़ना। ला. अर्थ मुहा. सिर चकराना।

चकला

(पुं.) ([तद्., चक्रलोट] )

1. पत्थर, लोहे या लकड़ी इत्यादि से बना गोल पाटा जिस पर बेलन से रोटी, पूरी आदि बेली जाती है। 2. वेश्यालय।

चक्कर

(पुं.) (तद्.(चक्र)

(चक्र) 1. पहिए, लट् टू या गेंद की तरह घूमने वाली गोल वस्तु। 2. गोल घेरा, मंडल, परिधि। 3. गोलाई में घूमने की क्रिया, परिक्रमा rotation 4. पहिए की तरह एक अक्ष के चारों ओर घूमना revolutation 5. सिर घूमने का भाव। मुहा. चक्कर काटना-किसी व्यक्‍ति या वस्तु के चारों ओर बार-बार घूमना, मँडराना। चक्कर खाना-भटकना, हैरान हो जाना। चक्कर में आना, पड़ना, फँसना-किसी धोखे में फँस जाना।

चक्का जाम

(पुं.) (देश. [चक्र=पहिया+जैम. अं.]

शा.अर्थ पहियों का चलना रुक जाना। सा.अर्थ-सरकार के प्रति विरोध प्रकट करने के लिए जबरन वाहनों को सडक़ों पर चलने से रोकना।

चक्र

(पुं.) (तत्.)

सा.अर्थ पहिया इंजी पहिए के आकार का धातु का बना उपकरण जिसकी परिधि पर दाँते बने होते हैं। खेल-खेल-प्रतियोगिता की या गोली चालन की संपूर्ण कालावधि का कई चरणों में बँटा हिस्सा। पर्या. दौर round योग-हठयोग एवं तांत्रिकों के अनुसार मनुष्यदेह में स्थित षट्चक्रों (मूलाधार, स्वाधिष्‍ठान, मणिपूर, अनाहत, विशुद् ध तथा आज्ञा चक्रों) में से कोई भी।

चक्रण

(पुं.) (तत्.)

महासागरों में जल का चक्कर बनाते हुए तेजी से ऊपर उठना।

चक्रवर्ती

(वि.) (तत्.)

सार्वभौम (राजा), ऐसा राजा जिसका शासन दूर-दूर तक फैला हो। जैसे: चक्रवर्ती सम्राट् दशरथ।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App