भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Hindi Paribhashik Laghu Kosh (CHD)

Central Hindi Directorate (CHD)

< previous123Next >

घटक

(पुं.) (तत्.)

किसी रचना में सहायक तत्व; किसी निर्मित वस्तु का कोई भी उल्लेखनीय अंश factor, component

घंटा

(पुं.) (तत्.)

1. पीतल या काँसे का बना कनेर के फूल जैसा बड़े आकार का उपकरण जिसे मंदिर, गिरजाघर आदि में बजाया जाता है। (बेल) 2. दिन-रात मिलाकर बने दिन का साठ मिनट के बराबर चौबीसवाँ भाग जिसे घडि़यों में समय-विभाजन का प्रमुख सूचक माना जाता है। आवर 3. विद्यालयों में भिन्न-भिन्न विषयों को पढ़ाने के लिए नियत कालखंड। जैसे: पहला घंटा, दूसरा घंटा आदि period

घंटाघर

([तत्.+तद्.]) (तद्.)

#ERROR!

घंटी

(स्त्री.)

[घंटा] 1. कनेर के फूल जैसा छोटे आकार का उपकरण जिसे मंदिरों में या घरों में पूजा करते समय बजाया जाता है। 2. कक्षा शुरू होते या समाप्‍त होने अथवा छुट् टी होने की जानकारी देने के लिए संख्या के अनुसार घंटीवादन। जैसे: दो बार घंटी बजने का अर्थ है दूसरा पीररियड शुरू हो रहा है अथवा लंबी घंटी बजने का अर्थ है-छुट् टी हो गई। 3. किसी भी प्रकार का (अन्य) उपकरण जिसे बजाकर लोगों का ध्यान आकृष्‍ट किया जाए। जैसे: दरवाज़े पर लगी घंटी, कार्यालय के कमरे में बजाई जाने वाली घंटी, साइकिल की घंटी, टेलीफ़ोन या मोबाइल की घंटी बजना।

घड़ी स्त्री

([तद्.< घटी])

<1. समय सूचक उपकरण जो घंटे-मिनट की सही स्थिति बताए। clock, watch 2. पूरे दिन का साठवाँ भाग, चौबीस मिनट का समय। 3. समय, अवसर मुहा. आखिरी घड़ी = मृत्यु का समय। घड़ी-घड़ी = बार-बार, हर क्षण। घड़ी गिनना = प्रतीक्षा करना। 4. (ग्राम्य प्रयोग) कपड़े आदि की करीने से जमाई गई तह।

घनघनाना

अ.क्रि. (अनु.) ‘घन-घन’ की या घंटी जैसी ध्वनि करना।

घनत्व

(पुं.) (तत्.)

शा.अर्थ घनापन, घना होने का भाव। 1. भौ. किसी पदार्थ में, कम स्थान में अणुओं का सापेक्षिक रूप से बढ़ जाने का भाव। कणों का पास-पास होना। घना होना। 2. भू. किसी निश्‍चित क्षेत्र में सापेक्षिक रूप में जनसंख्या, घर, जंगल आदि अधिक होने का भाव। इसका माप संख्या/किमी2 माना जाता है। दे. घना। विलो. विरलता। dencity

घना

([तद्.<सघन]) (स्त्री. घनी)

<वि. 1. बहुत पास-पास सटे पौधों/वृक्षों वाला। जैसे: घना जंगल। 2. बहुत पास-पास बने घरों वाली (बस्ती) घनी बस्ती। 3. तुलनात्मक दृष्‍टि से एक ही स्थान पर भारी संख्या में रहने वाले (लोग)। जैसे: घनी आबादी।

घनी [घन + ई]

(तत्.) (पुं.)

जिसके कण, अंश या अंग परस्पर इस प्रकार सटे हुए हों जिससे कि वह वस्तु समूह न होकर एक ही प्रतीत हो। सघन, गहन। जैसे: घनी आबादी, घनी बस्ती। पुं. घना।

घपला

(पुं.) (देश.)

छिपाकर की गई गड़बड़ी, विशेष रूप से हिसाब-किताब में यह मानते हुए की गई गड़बड़ी कि इसका दूसरे को पता नहीं चलेगा। पर्या. घोटाला bungling, misappropriation

घबराना/घबड़ाना

अ.क्रि. [देशज < गड़बड़ाना] 1. चित्‍त का अकस्मात् व्याकुल हो जाना। 2. भय या लंबी प्रतीक्षा आदि दु:ख के कारण मन में क्षोभ उत्पन्न होना; मन का अस्थिर हो जाना। 3. विपत्‍ति से बाहर निकलने का मार्ग न दीखना; क्या करें क्या न करें-यह समझ में न आना कि कर्तव्य विमूढ़ हो जाना।

घबराहट/घबड़ाहट

(स्त्री.) (देश.)

घबराने का भाव। दे. घबराना।

घमंड

(पुं.)

अपने बारे में आडंबरपूर्ण और मिथ्या अभिमान की ऐसी भावना जो बड़बोलेपन के रूप में प्रकट होती है और अपनी तुलना में दूसरों को हीन समझती है।

घमंडी

(वि.) (देश.)

तु. अभिमान। घमंड करने वाला। दे. घमंड।

घमासान

(वि.)

(अनु. देशज शब्द) घोर, भयंकर। उदा. घमासान युद् ध। जैसे: राम-रावण के बीच घमासान युद्ध हुआ।

घरेलू [घर + एलू]

(तद्.) (वि.)

1. घर-गृहस्थी से संबंधित। जैसे: घरेलू सामान domestic 2. घर जैसा। उदा. घरेलू वातावरण homely 3. जो पालतू हों। जैसे: घरेलू पशु। विलो. जंगली।

घरेलू हिंसा [घरेलू + हिंसा]

(स्त्री.) (तद्.)

घर के अंदर यानी पारिवारिक स्तर पर होने वाली हिंसा। जैसे: बच्चों की पिटाई, (पति द्वारा) पत्‍नी की पिटाई आदि।

घरौंदा

(पुं.)

(घर.) 1. (तुच्छता प्रदर्शन हेतु प्रयोग) घर, 2. बच्चों के खेलने के लिए मिट् टी, रेत, कागज़ आदि से बनाए गए घर जैसी आकृति।

घर्षण

(पुं.) (तत्.)

सा.अर्थ घिसने या रगड़ खाने की क्रिया या भाव। भौ. बल जो परस्पर स्पर्श करने वाले दो पृष्ठों की सापेक्ष गति का विरोध करता है। यह बल गति की विपरीत दिशा में लगता है। friction
< previous123Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App