भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Surgical Terms (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें
Please click here to view the introductory pages of the dictionary

< previous12Next >

Ice Bag

हिम पोटली
वर्फ से पूर्ण पोटली

Idiopathic Scoliosis

अज्ञातहेतुक पार्श्वकुब्जता
इर रोग का कारण अज्ञात है। यह कशेरुका वृद्धि में विक्षोभ (गड़बड़ी- disturbance) हो जाने के कारण होता है। मेरुदण्ड (spine) में प्राथमिक वक्रता (primary curve) का संतुलन द्वितीयक वक्रताओं (secondary curves) द्वारा होता है। यह संतुलन प्राथमिक वक्रता की विपरीत दिशा में उसके ऊपर तथा नीचे होता है। जब मरीज कपड़े पहन लेता है, उस समय हल्के प्रकार की पार्श्वकुब्जता ज्यादा दिखाई नहीं देती है। तीव्र (बहुत अधिक) प्रकार में रोगी का कद करीब 15 सेमी कम हो जाता है और परलियों का कूबड़ (hump) निकल आता है। इस प्रकार कुब्जता (hunch back) उत्पन्न हो जाती है। यह 10 से 12 साल की आयु में दिखाई दे सकती है जब तक मेरूदण्ड का विकास पूरा होता है। प्रारंभिक अवस्था में इस कुब्जता को ठीक किया जा सकता है।

Ilecaecostomy

शेषान्य-उण्डुक-सम्मिलन
शस्त्रकर्म द्वारा शेषान्त्र (ileum) तथा उण्डुक (caecum) का सम्मिलन (anasotomosis) कराना।

Ileostomy

शेषान्त्रछिद्रीकरण
एक शस्त्रकर्म जिसमें बाहरी वातावरण उपरभित्ति से शेषांत्र में छेद (छिद्र) का निर्माण किया जाता है।

Ileotomy

शेषन्त्रछेदन
एक शस्त्रकर्म जिसमें शेषांत्र में किया जाने वाला छेदन (incision)।

Ileum

क्षुदांत्र, इलियम
छोटी आँत का अन्तिम तृतीय पंचमांश भाग (अर्थात जेजूनम) और बड़ी आँत के बीच का भाग।

Ilium

इलियम (अस्थि) श्रोणि, अस्थि
श्रोणि मेखला की अग्र पृष्ठीय अस्थि जो चतुष्पादों में जघनास्थि (प्यूबिस) और त्रिक (सैक्रल) कशेरुक के अनुप्रस्थ प्रवर्ध से जुड़ी रहती है।

Immune

प्रतिरक्षित
जीव, कि ऐसी स्थिति जिसमें रोग संक्रमण या किसी दूसरे पीड़कों के प्रति पूर्ण निरोध क्षमता होती है।

Immunization

प्रतिरक्षण
प्रतिजन प्रवेश का एक प्रक्रम।

Immunogen

प्रतिरक्षाजन
प्रोटीन या ग्लाइकोप्रोटीन जैसा वह पदार्थ जो शरीर में प्रवेश करने पर प्रतिरक्षा अनुक्रिया उत्पन्न करता है।

Incomplete Abortion

अपूर्ण गर्भपात
जिस गर्भपात में गर्भ बाहर है परन्तु अपरा एवं जरायु के कुछ अंश बाहर नहीं आते।

Inevitable Abortion

अपरिहार्य गर्भपात
गर्भपात की वह अवस्था जिसमें रक्तस्राव, गर्भाशय मुख का विस्फार, गर्भाशय संकोच के कारण उदरशूल आदि लक्षणों का उत्पन्न होना जिसमें गर्भपात को रोका नहीं जा सकता।

Incised Wound

छेदित व्रण
शरीर में किसी तेज धार वाले शस्त्र (sharp instrument) के लगने उत्पन्न घाव। ऐसे घाव से खून बहुत अधिक मात्रा में निकलने लगता है। इस घाव के किनारे कटे-फटे न होकर तेज धार वाले (sharp edged) होते है।

Incision

छेदन
शस्त्रकर्म छेदन (surgical incision) का ध्येय गहरी (गंभीर) रचनाओं तक पहुंचना होता है। इस काम में ध्यान देने योग्य बात यह है कि त्वचा की प्राकृतिक सलवटें (creases) न कट जाएं। यदि छेदन लेंगर रेखाओं के साथ-साथ (जो त्वचा में प्राकृतिक सिलवटें तथा झुर्रियां हैं) किया गया तो क्षतचिह्न (scar) हल्के बनते हैं।

Indigenous

देशज, देशी
किसी प्रदेश में प्राकृतिक रूप से मिलने वाले पादप या प्राणी।

Infantile Multiple Periostitis

शैशव बहुपर्यस्थिशोथ
इस रोग में कई हड्डियों पर अवपर्यास्थि अस्थि (subperiosteal bone) आ जाती है। ह अवस्था शिशुओं में होती है। वे चिड़चिड़े (irritable) हो जाते हैं और उनके मुलायम भाग के स्थान विशेष में सूजन आ जाती है जो गरम (ऊष्मा सहित) होती हैं तथा दबाने पर दर्द करती है।

Infection

संक्रमण
ऊतकों में किसी परजीवी की स्थापना।

Ingestion

अंतर्ग्रहण
मुख के द्वारा शरीर के अंदर भोजन अथवा औषध ले जाने की क्रिया।

Ingrowing Toe Nail

नखांतः वृद्धि
नाखून के दोनों तरफ के किनारों का मुलायम ऊतक में अन्दर की ओर बढ़ना जिससे दर्द, शोथ तथा पूयीभवन (suppuration) हो जाते हैं। असावधानी से नाखून काटने पर या संकरे नोकदार जूते पहनने से भी यह अवस्था पैदा हो जाती है। अधिकतर यह अवस्था बड़ी अंगुलियों के नाखूनों में देखी जाती है। शोथ होने पर प्रति-जीवी औषधियों (antibiotics) का सेवन लाभदायक है। साथ ही नाखून के खुरदरे किनारे को नखशय्या (nail bed) के एक हिस्से के साथ काट कर निकाल दिया जाता है। इससे बाद में बढ़ने पर किनारे फिर से सामान्य हो जाते हैं। कभी-कभी सम्पूर्ण नाखून को नखशय्या तथा अंगुलि के अन्तभाग के साथ काट कर निकाल देने की आवशयकता भी पड़ जाती है।

Inguinal Hernia

वंक्षण हर्निया
वंक्षण नलिका की पिछली दीवाल (पश्च भित्ति) के जरिए आशय का आभ्यन्तर वलय के द्वारा बहिःसरण होता है तब इस अवस्था को तिर्यक-वंक्षण हर्निया (indirect or oblique hernia) कहते हैं। यदि आश नलिका की पिछली दीवाल से निकलता है तो उसे ऋजु वंक्षण हर्निया (direct hernia) कहते हैं। कभी कभी शिशुओं (infants) तथा बड़े बच्चों में तिर्यक वंक्षण हर्निया के साथ अनवतीर्ण वृषण (undescended testis) भी होता है। हर्निया में एक कोश (sac) होता है जो भित्तिक पर्युदर्यो (parietal peritoneum) से आता है। वंक्षण हर्निया के सामान्य उपद्रव (1) अवरोध (रुकावट-obstruction) तथा (2) विपाशन (strangulation) हैं।
< previous12Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App